click to enable zoom
Loading Maps
We didn't find any results
open map
View Roadmap Satellite Hybrid Terrain My Location Fullscreen Prev Next
Advanced Search
We found 0 results. Do you want to load the results now ?
Advanced Search
we found 0 results
Your search results

Category Archives: Uncategorized

माना जाता है कि परवल की खेती गंगा के किनारे ही होती है| झारखंड की मिट्टी और जलवायु परवल के लिए उपयुक्त नहीं मानी जाती| पर इस धारणा को नकारते हुए गोला के हेसापोड़ा पंचायत के भुभूई गांव की शांति देवी ने परवल की खेती कर समाज को यह बता दिया कि अगर लग्न व जज्बा हो तो कोई काम असंभव नहीं है| शांति ने पहली बार 2 वर्ष पूर्व 1 एकड़ जमीन में परवल लगाया था| जिससे अच्छी पैदावार हुई| आज साल में 4 बार इसे तोड़ कर बाजार में बेचती हैं| जिससे करीब एक लाख बीस हजार रुपए की आमदनी हो जाती है| एक बार में करीब 40 किलो परवल निकलता है| शांति ने बताया कि - "उसने यह खेती प्रदान नामक संस्था के सहयोग से किया था| अब उसके परिवार का जीविकोपार्जन बड़े आराम से हो जाता है|" परवल की खेती से होता है परिवार का जीविकोपार्जन- शांति देवी के परवल की खेती से गांव के लोग इतने प्रभावित हुए कि अब परवल उगाने लग गए हैं| गांव के मोहन महतो और प्यासो देवी ने उसका अनुसरण करते हुए परवल की खेती शुरू की और आज इसी से अपने परिवार का भरण पोषण कर रहे हैं| गोला के बनता मार्केट में भेजती हैं फसल- शांति देवी साल में 4 बार परवल की फसल तोड़ती हैं| इस बार अप्रैल-माह के समाप्त होने के बाद इसे तोड़ा जाएगा और गोला के बनतारा मार्केट ला कर बेचा जाता है| यहां परवल के अच्छे दाम मिल जाते हैं| लोगों का स्थानीय परवल काफी पसंद आ रहे हैं| शांति का परवल हाथो-हाथ बिक जाता है| महीने में दो बार देनी पड़ती है खाद और दवा- किसान शांति ने बताया कि - "वे एक बार अपने रिश्तेदार के यहां रांची गई थी| वही उसने छोटे पैमाने पर परवल की खेती देखि| यहीं से वह स्वयं सेवी संस्था प्रदान से जुड़ गई| और इसे लगाने के तरीके सीखे|" शांति ने बताया कि पौधा रोपने के समय से ही महीने में दो बार खाद और कीटनाशक दवाइयां डाली जाती हैं| साथ ही पौधों की सुरक्षा और बराबर देखभाल करना होता है| शांति को मिलेगा प्रशासनिक सहयोग : कृषि पदाधिकारी इस संबंध में जिला कृषि पदाधिकारी अशोक सम्राट ने बताया कि उनकी जानकारी में मात्र एक ही जगह परवल की खेती होने की जानकारी मीडिया के माध्यम से मिली है| अगर ऐसा हो रहा है तो वह अपने प्रयास से वैश्य किसान को लिफ्ट इरीगेशन की सुविधा मुहैया करा सकते हैं| और साथ ही अप्रैल माह में इसका सर्वे कराकर किसान को लाभ दिया जाएगा|gaonguru.com

झारखंड की मिट्टी में परवल की खेती से लाखों क...

Apr 13, 2018
माना जाता है कि परवल की खेती गंगा के किनारे ही होती है| झारखंड की मिट्टी और जलवायु परवल के लिए उपयुक्त नहीं मानी जा [more]
Continue Reading