click to enable zoom
Loading Maps
We didn't find any results
open map
View Roadmap Satellite Hybrid Terrain My Location Fullscreen Prev Next
Advanced Search
We found 0 results. Do you want to load the results now ?
Advanced Search
we found 0 results
Your search results

किन वजहों से भेड़पालन फायदेमंद है? और क्यों ऊन उत्पादन के लिए भारत में भेड़पालन सर्वाधिक प्रचलन में है ?

Posted by Pramod on March 21, 2018
| 0

क्यों,  भेड़पालन फायदेमंद है

भारत में भेड़ पालन काफी समय से किया जाता है | बताया जाता है विदेशों में कई प्रकार की संकरित प्रजाति की भेड़ का विकास भारतीय प्रजातियों के आधार पर किया गया है | आइए इस विषय में हम भेड़ पालन की जानकारी के साथ में उनके विकास एवं भारत में समकालीन स्थिति पर चर्चा करेंगे |

भारत में कई राज्यों में भेड़ पालन काफी प्रचलन में है | भारत में विकसित भेड़ों की प्रजातियां कई मायनों में अहम है | यह किसान को दूध, मीट आदि कई तरीके से आमदनी में वृद्धि कराती है | जिनके लिए क्षेत्रीय प्रजातियां विकसित की गई | जिनमें –

ऊन उत्पादन –

ऊन के साथ-साथ मीट का उत्पादन के लिए भारत में भेड़ पालन काफी प्रचलन में है | भेड़ के बच्चों को स्लाटर हाउस में मीट उत्पादन के लिए बेचा जाता है | भारत में औसत मीट उत्पादन प्रति बच्चे से काफी अच्छा है | डाटा के अनुसार 9.05 किलोग्राम प्रति भेड़ रिकॉर्ड किया गया | लेकिन मीट उत्पादन के लिए भेड़ प्रजाति का विकास काफी कम है | क्योंकि भेड़ों का पालन खासकर ऊन उत्पादन के लिए किया जाता है |

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऊन का निर्यात या यूं कहें कि ऊन का व्यापार काफी बड़े स्तर पर होने से भारत में भेड़ पालन काफी अधिक हो गया है |

आप शायद नहीं जानते कि भेड़ का दूध डेरी विदेशों में काफी प्रचलन में है | जिसके कारण वहां भेड़ पालन काफी अधिक किया जाता है | माना जाता है कि भेड़ का पालन दूध उत्पादन के दृष्टिकोण से काफी पहले से किया जा रहा है | विश्व में भेड़ दूध उत्पादन में 1.3 प्रतिशत तक साझा करता है |

भेड़ के दूध के फायदे –

भेड़ के दूध में विटामिन की अधिक मात्रा पाई जाती है | विटामिन ए, बी व ई के साथ-साथ लियोनिक एसिड होने के कारण कैंसर से लड़ने की अधिक क्षमता होती है |मोटापे से निपटने के लिए भेड़ का दूध काफी फायदेमंद साबित होता है| पनीर उत्पादन के लिए भी भेड़ का दूध से विश्व में कुल पनीर उत्पादन का 1.3 प्रतिशत साझा किया जाता है |

भेड़ उत्पादन के क्षेत्र –

भारत में भेड़ पालन जम्मू कश्मीर, हिमाचल व हिमालई रीजन में काफी होता है | तो वहीं उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में भी काफी बड़े स्तर पर किया जाता है | ऊन उत्पादन उत्तर प्रदेश, राजस्थान, जम्मू कश्मीर, हिमाचल और गुजरात में होता है | एक भेड़ से 0.9 किलोग्राम तक औसत उत्पादन दर्ज किया गया है | 2014 -15 के दौरान ऊन का उत्पादन 48.1 प्रतिशत रिकॉर्ड किया गया|

भारत में भेड़ की प्रमुख प्रजातियां-

उत्तरप्रदेश और मध्यप्रदेश में जो जालोनी, राजस्थान में जैसलमेरी, जम्मू कश्मीर में भकरवाल, छत्तीसगढ़ में छत्तौगपुरी, उड़ीसा में गंजम, हिमाचल में गद्दी, मारवाड़ी राजस्थान और गुजरात में प्रचलित भेड़ की प्रजाति है |

नोट – मालपुरा प्रजाति का क्रॉस ब्रीड काफी अच्छा रिकॉर्ड किया गया है | मीट उत्पादन के लिए इस प्रजाति का विकास किया जा रहा है |

Leave a Reply

Your email address will not be published.