click to enable zoom
Loading Maps
We didn't find any results
open map
View Roadmap Satellite Hybrid Terrain My Location Fullscreen Prev Next
Advanced Search
We found 0 results. Do you want to load the results now ?
Advanced Search
we found 0 results
Your search results

पामा एग्रिको संस्था को आरवीसीई का सहयोग – गांव गुरु

Posted by Pramod on April 4, 2018
| 0

कृषी क्षेत्र का भविष्य तकनीकी प्रगति पर निर्भर करने वाला है | इस तथ्य को स्वीकार कर लिया गया है | इसके तहत कई निर्णय लिए गए | इसी को ध्यान में रखते हुए कृषि के क्षेत्र में तेजी से अपनी पहचान बना रही कंपनी, पामा एग्रिको ने हाल ही में आरवीसीई के साथ करार किया है |

आज के समय में कृषि मशीनरी की मांग तेजी से बढ़ रही है | बशर्ते की मशीनरी गुणवत्ता वाली होनी चाहिए | भारत के सबसे तेजी से बढ़ते कृषि उपकरण अनुसंधान एवं विकास संगठन को अपने अनुसंधान और विकास सहयोग के लिए सबसे प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थानों में से एक, आरवीसीई (आरवी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, बेंगलुरु) के साथ सहयोग के लिए एक महत्वपूर्ण निर्णय की पुष्टि की है | यह करार निहित कृषी उद्योग चुनौतियों को अनुसंधान, नवाचार और तकनीकी विकास के माध्यम से समाधान करने उद्देश्य से किया गया है |

विश्व की आर्थिक महाशक्तियां कहे जाने वाले अनेक देश अपने विनिर्माण क्षमताओं के साथ अपने देश की प्रगति के लिए किस प्रकार से योगदान देते हैं | इस विषय का विवरण और इसी विषय का भारतीय परिदृश्य में परिपालन करने के उद्देश्य रखने वाले, पामा एग्रीको संस्थान के संस्थापक श्रीनिवास पी. कामिसेट्टी कहते हैं कि  – “भारत की 50% आबादी ग्रामीण क्षेत्र से और कृषि संबंधित अनिश्चितताओं से जूझती हैं | लागत प्रभावी, टिकाऊ और आसानी से उपयोग किए जाने वाले कृषी उपकरण उपकरण जो प्राकृतिक जलवायु परिवर्तनो के अनुपालन में है | और अर्थव्यवस्था के वृद्धि के परिणामस्वरूप देश की स्थिति में सुधार होगा |” श्रीनिवास कहते हैं कि – “आरवीसीई स्टेट आफ आर्ट, अनुसंधान एवं विकास केंद्र है जो कई पेटेंट के पोषक है | और इस प्रतिष्ठित संस्थान का भूतपूर्व छात्र होने के कारण यह विकल्प काफी स्वाभाविक रूप से आता है |

आरवीसीई के प्राचार्य डॉक्टर के. एन. सुब्रमण्यम का कहना है कि – “हम पामा अग्रिको के रिसर्च एंड डेवलपमेंट की पहल के साथ सहयोग करने और तकनीकी विकास पर उनके साथ काम करने में खुशी रखते हैं | आर्थिक दबाव के परिणामस्वरुप बढती व्यापारिक जटिलताओं के समाधान में शैक्षणिक – औद्योगिक भागीदारी ने अच्छी गति प्राप्त की है | ऐसे सहयोगों के परिणाम से लोगों के कार्यक्षमता में वृद्दि,  नए ज्ञान और आचरण अनुसंधानों के साथ औध्योगिक क्षेत्र में नये मार्गदर्शन की सुविधा प्रदान होती है |”

आरवीसीई के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के डॉक्टर श्रीधर आर और प्रोफेसर गंगाधर अंगडी के अनुसार – “यह देखा गया है कि विनिर्माण उद्योग में काम कर रहे छात्रों को सेवा उद्योग क्षेत्र की तुलना में नौकरी की संतुष्टी उच्च स्तर की होती है | इसलिए हम विनिर्माण उद्योग के संपर्क में उत्कृष्ट रूप मैं विचार करते हुए इस साझेदारी को सक्षम करने के लिए सामग्री को संस्थान का आभार व्यक्त किया |”

शैक्षणिक उद्योग अनुसंधान एवं विकास साझेदारी को कारोबारी माहौल में मानक के रूप में उद्धृत किया गया है | जो वैज्ञानिक खोजों और तकनीकी सफलताओं के अनुसार पुनर्मिलन करने के कारण हैं और इन तकनीकी सफलताओं को प्रदान करना, यही औधोगिक क्षेत्र से अपेक्षित की जाती हैं | नए स्तर पर मशीनीकरण को ले जाने से इंजीनियरिंग प्रगति – इस तत्व पर स्थापित पामा एग्रिको संस्थान का मानना है कि, रिसर्च एंड डेवलपमेंट क्षेत्र में अपने ग्रहण प्रयासों से यह संस्थान मार्केट में विभिन्नता का प्रतीक बनने वाली है |

Leave a Reply

Your email address will not be published.